Advertisements
Advertisements
Advertisements
Homeबायोग्राफीलता मंगेशकर की जीवनी | Lata Mangeshkar Biography in Hindi

लता मंगेशकर की जीवनी | Lata Mangeshkar Biography in Hindi

लता मंगेशकर की जीवनी, जीवन परिचय,  शिक्षा, करियर, फ़िल्मी करियर, हिट गाने, पुरष्कार, परिवार, उम्र,शादी, पति, बच्चे, हेल्थ अपडेट (Lata Mangeshkar Biography in Hindi), Lata Mangeshkar, Life, Career, Age, Husband,Health Update,Hit songs, Family)

Advertisements

Lata Mangeshkar Biography in Hindi: लता मंगेशकर भारत की सबसे लोकप्रिय और आदरणीय गायिका (Lata Mangeshkar Biography in Hindi) है. जिनका छह दशकों का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा पड़ा है. जिनकी आवाज ने छह दशकों से भी ज्यादा संगीत की दुनिया को शुरू से नवाजा है. भारत की ‘स्वर कोकिला’ लता मंगेशकर ने 20 भाषाओं में 30,000 गाने गाए हैं. उनकी आवाज सुनकर कभी किसी की आंखों में आंसू आए तो कभी सीमा पर खड़े जवानों को सहारा मिला. लता जी आज भी अकेली है. उन्होंने स्वयं को पूर्णतः संगीत को समर्पित कर रखा है, लेकिन उनकी पहचान भारतीय सिनेमा में एक पार्श्वगायक के रूप में रही है. अपनी बहन आशा भोसले के साथ लता जी का फिल्मी गाने में सबसे बड़ा योगदान रहा है.

लता मंगेशकर की जीवनी (Lata Mangeshkar Biography in hindi)

सिंगर लता मंगेशकर सुरों की रानी भारत देश के खास रत्नों में से एक हैं. लता जी देश-विदेश सभी जगह अपनी आवाज की वजह से जानी जाती हैं. इनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज है. उन्होंने सबसे ज्यादा गाना गाकर एक रिकॉर्ड बनाया है. लता जी ने लगभग 30 हजार गाने 20 अलग-अलग भाषाओं में 1948-87 तक गाए हैं. अब तो यह आंकड़ा 40 हजार के पार है.

लता जी की आवाज के लिए अमेरिका के वैज्ञानिक कहते हैं कि “ऐसी आवाज ना कभी किसी गायक की सुनी ना सुनेंगे”. उन्होंने लता जिसे मरने के बाद उनके गले की जांच करने की बात भी रखी है. वह जानना चाहते हैं कि आखिर लता जी के गले में ऐसा क्या है जो उनकी आवाज इतनी सुरीली और पतली है. लता जी के पिता एक क्लासिक सिंगर थे, जो थियेटर में काम किया करते थे. लता जी को गायकी विरासत में अपने पिता से ही मिली थी. वो उन्ही से संगीत सीखा करती थीं.

Advertisements
नाम  लता मंगेशकर 
जन्म  28 सितम्बर 1929 
जन्म स्थान  इंदौर, मध्य प्रदेश 
माता पिता का नाम  शेवंती मंगेशकर, दीनानाथ मंगेशकर 
भाई बहन का नाम  मीना, उषा, आशा, हृदानाथ 

 

लता मंगेशकर का करियर (Lata Mangeshkar Singing Career)

लता जी ने मात्र 5 साल की उम्र में पहला काम अपने पिता की एक नाटक में किया था. जिसके बाद वे ट्रेनिंग लेती रही और 13 साल की उम्र में 1942 में एक मराठी फिल्म के लिए गाना रिकॉर्ड किया. फिल्म रिलीज हुई लेकिन किसी कारणवश फिल्म से गाना हटा दिया गया. इस बात से लता जी बहुत आहत हुई. इस साल लता जी के पिता की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई. लता जी अपने घर में सब भाई बहनों में बड़ी थी तो सारी जिम्मेदारी उनके कंधों पर आ गई. विनायक दामोदर एक फिल्म कंपनी के मालिक थे जो दिना नाथ जी के अच्छे मित्र हैं. उनके जाने के बाद उन्होंने लता जी के परिवार को संभाला.

फ़िल्म का नाम  गाने के बोल  सन 
गजभाऊ (मराठी फ़िल्म) माता एक सपूत की दुनिया बदल ले तू (हिंदी गाना) 1943

 

1945 में लता जी मुंबई आ गई और अमानत अली खान से ट्रेनिंग लेने लगी. लता जी ने 1947 में हिंदी फिल्म ‘आपकी सेवा में’ के लिए एक गाना गाया, लेकिन किसी ने उनको नोटिस नहीं किया. उस समय गायिका नूरजहां, शमशाद बेगम, जोनहाभाई अम्बलेवाली का दबदबा था, बस यही गाय का पूर्ण रूप से सक्रिय थी, उनकी आवाज भारी वह अलग थी. उनके सामने लता जी की आवाज काफ़ी पतली और दबी भी लगती थी 1949 में लता जी ने लगातार चार हिट फिल्मों में गाने गाए और सब में उनको नोटिस किया गया. बरसात दुलारी अंदाज में महल फिल्म थी, इसमें से महल फिल्म का गाना आएगा आने वाला सुपरहिट हुआ और लता जी ने अपने पैर हिंदी सिनेमा में जमा दियें.

lata mangeshkar biography in hindi

लता मंगेशकर को मिले प्रमुख अवार्ड (Lata Mangeshkar Singing Award)

सिविलयन अवार्ड  – 1969 में लता जी को पहली बार देश की सरकार द्वारा देश का 3rd नंबर के अवार्ड पद्म भूषण से सम्मानित किया गया.

– 1989 में लता जी को हिंदी सिनेमा के सर्वोच्य अवार्ड दादा साहेब फाल्के अवार्ड से सम्मानित किया गया.

– 1999 में लता जी को देश का 4th नंबर के अवार्ड पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था.

– 2001 में लता जी को देश का सबसे बड़ा सम्मान भारत रत्न ने सम्मानित किया गया.

– 2008 में लता जी को स्वंत्रता की 60वीं वर्षगांठ पर one टाइम अवार्ड for लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए देश की सरकार द्वारा सम्मानित किया गया.

नेशनल फ़िल्म अवार्ड  – परिचय (1972)- बेस्ट प्लेबैक सिंगर

– कोरा कागज (1974)- बेस्ट प्लेबैक सिंगर

– लेकिन (1990)- बेस्ट प्लेबैक सिंगर

फिल्म फेयर अवार्ड  – फ़िल्म फेयर अवार्ड में पहले प्लेबैक सिंगर के लिए अवार्ड नही होता था, लता जी ने इसका विरोध किया और 1958 से यह अवार्ड जोड़ा गया.   इसके बाद लता जी को 6 बार इस अवार्ड से सम्मानित किया गया.

 

इसके अलावा लता जी और भी बहुत से अनगनित अवार्ड मिले. महाराष्ट्र सरकार द्वारा उन्हें महाराष्ट्र भूषण व महाराष्ट्र रत्न से भी सम्मानित किया गया. लता जी को इसके अलावा 250 ट्रॉफी व 150 गोल्ड मेडल प्राप्त है.

लता मंगेशकर का फिल्मी करियर (Lata Mangeshkar Filmy Career)

लता जी ने लगभग सभी बड़े निर्माता निर्देशक के साथ काम किया है. पहले वह नूर जहान की तरह गाने की कोशिश करती थी लेकिन समय के साथ लता जी ने अपनी आवाज में पहचान पा ली. लता जी ने नौशाद अली, अनिल विश्वास, मदद मोहन, एसडी बर्मन, शंकर जयकिशन जैसे महान म्यूजिक डायरेक्टर के साथ काम किया है. लता जी के गाने के बाद सिर्फ इंडस्ट्री का मेकओवर हो गया था. फिल्मों में गानों को नयापन मिला. 50s में लता जी की छोटी बहन आशा जी ने फिल्मी दुनिया में कदम रखा. दोनों बहनों की आवाज में बहुत अंतर था लेकिन एक ही जगह काम करने कारण दोनों के बीच तुलना बहुत की जाती थी. लेकिन काम को दोनों बहनों ने अपने रिश्ते के बीच नहीं आने दिया.

लता जी ने फेमस गायक मोहम्मद रफ़ी, मुकेश व किशोर जी के साथ ढेरों गाने गाए. लता जी का गायकी को लेकर लालसा देखते बनती थी. मोहम्मद रफ़ी व एसडी बर्मन के साथ कुछ अनबन के चलते लता जी ने इनके साथ काम करने को मना कर दिया. रफ़ी के साथ उनके मनमुटाव को संगीतकार जय किशन जी ने ठीक किया था लेकिन बर्मन के साथ उनके रिश्ते ठीक नहीं हुए और 1972 के बाद से दोनों ने कभी साथ में काम नहीं किया.

लता मंगेशकर के 1960 के प्रसिद्ध गाने (Lata Mangeshkar 1960 Hit Songs)

क्रमांक  फ़िल्म का नाम  गाने के बोल 
1. मुग़ल ए आज़म (1960) प्यार किया तो डरना क्या 
2. दिल अपना प्रीत पराई (1960) अजीब दास्ताँ है ये 
3. गाइड (1965) -आज फिर जीने की तम्ना है 

 -गात रहे मेरा दिल (किशोर जी के साथ)

4. ज्वेल थीफ (1967) होठों पे ऐसी बात 

यह चारों फिल्म के गाने आज भी लोग याद करते हैं और सुने जाते हैं. इसके अलावा भूत बंगला (1965), पति-पत्नी (1966), बहारों के सपने (1968), अभिलाषा (1969) जैसी फिल्मों के गाने भी फेमस हुए थे. 1963 में लता जी ने उस समय प्रधानमंत्री रहे नेहरू जी के सामने देश का सबसे चाहिता गाना “ऐ मेरे वतन के लोगों” गाया इसे सुन नेहरू जी के आंसू छलक आए थे.

लता मंगेशकर के 1970 के प्रसिद्ध गाने (Lata Mangeshkar 1970 Hit Songs)

क्रमांक  फ़िल्म का नाम  गाने के बोल 
1. पाकीज़ा (1972) -इन्हीं लोगों ने 

-चलते चलते 

2. प्रेम पुजारी (1970) रंगीला रे 
3. शर्मीली (1971) खिलते है गुल यहां 
4. अभिमान (1973) -पिया बिना 

-तेरी बिंदिया रे 

5. परिचय (1973) बीती ना बिताई 
6. नीलू  कादली चेकाडली 
7. कोरा कागज़  रूठे रूठे पिया 
8. सत्यम शिवम् सुंदरम  सत्यम शिवम् सुंदरम 
9. रुदाली  दिल हुम् हुम् करे 

 

लता मंगेशकर के 1980 के प्रसिद्ध गाने (Lata Mangeshkar 1980 Hit Songs)

– सिलसिला
– चांदीनी
– राम लखन
– मैंने प्यार किया
– एक दूजे के लिए
– हीरो

लता मंगेशकर के 1990 के प्रसिद्ध गाने (Lata Mangeshkar 1990 Hit Songs)

– लेकिन
– दिल वाले दुल्हनिया ले जाएंगे
– दिल तो पागल है
– हम आपके हैं कौन
– मोहब्बतें
– वीर ज़ारा
– लम्हे
– डर

लता मंगेशकर जी अपने स्वास्थ्य के चलते इस समय फिल्मों में काम नहीं कर पाती हैं. 2000 के बाद से उन्होंने गिने-चुने गाने ही गाए हैं. इसमें लगान फिल्म का ‘ओ पालनहारे’ ‘रंग दे बसंती’ ‘लुकाछिपी’ व बेवफा का ‘कैसे पिया से कहे’ शामिल है.

लता मंगेशकर कोरोना पॉजिटिव (Lata Mangeshkar Corona Positive)

हाल ही में लता मंगेशकर जी की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है. जिसके बाद उन्हें मुंबई ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल में आईसीयू में भर्ती कराया गया है. लता जी का स्वास्थ्य इन दिनों ठीक नहीं है. उन्हें सांस की बीमारी के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था  अभी डॉक्टर्स का कहना है कि उनकी हालत ठीक नहीं है. उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम में रखा गया है. हम उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हैं.

ये भी पढ़ें
RELATED ARTICLES

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

%d bloggers like this: