Advertisements
Advertisements
Advertisements
Homeइनफार्मेशनलगणतंत्र दिवस निबंध | Republic Day Essay in Hindi

गणतंत्र दिवस निबंध | Republic Day Essay in Hindi

Advertisements

गणतंत्र दिवस निबंध ,गणतंत्र दिवस निबंध हिंदी में ,गणतंत्र दिवस 2022 ,गणतंत्र दिवस का महत्व ,गणतंत्र दिवस का इतिहास ,गणतंत्र दिवस का उत्सव ,गणतंत्र दिवस शायरी (Republic Day Essay in Hindi, Republic Day Essay, Republic Day 2022, Importance of Republic Day, History of Republic Day, Celebration of Republic Day, Republic Day Poetry)

Republic Day Essay in Hindi, भारत अपना 73 वां गणतंत्र दिवस 26 जनवरी 2022 को मनाएगा. भारत उस दिन के सम्मान में गणतंत्र दिवस मनाता है जब भारत का संविधान वर्ष 1950 में लागू हुआ था. गणतंत्र दिवस को भारत में राष्ट्रीय अवकाश के रूप में घोषित किया जाता है. सभी सरकारी और निजी, कार्य स्थल स्कूल कॉलेज बंद रहते हैं या वे इस दिन को भारत के राष्ट्रीय तिरंगे झंडे की मेजबानी करके और बच्चों और अन्य लोगों के बीच मिठाई वितरित करके मनाते हैं. भारत की राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली में एक भव्य सैन्य परेड का आयोजन किया जाता है. भारत ने हमेशा इस दिन को हमेशा गर्व से मनाया है. यह भव्य सैन्य परेड भारत की निडर, शालीन और शक्ति से भरी सेना की टीम का प्रतीक है. भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को भी प्रदर्शित करता है.

अनेकता में एकता ही हमारी शान है,
इसलिए मेरा भारत महान है,
गणतंत्र दिवस मुबारक हो!
Happy Republic Day 2022

गणतंत्र दिवस निबंध (Republic Day Essay in Hindi)

भारत के तीन राष्ट्रीय त्यौहारों के बीच गणतंत्र दिवस भारत का सबसे महत्वपूर्ण राष्ट्रीय त्योहारों  में से एक है जो 26 जनवरी को मनाया जाता है. 26 जनवरी को भारत के प्रत्येक नागरिक द्वारा गणतंत्र दिवस मनाया जाता है क्योंकि इस दिन “भारत सरकार अधिनियम” की जगह 1950 में भारत का संविधान लागू हुआ और 1947 में स्वतंत्रता के बाद भारत का एक लोकतांत्रिक गणराज्य देश बन गया.

भारत के शहरों राज्य और देशवासियों के बीच सुंदर संबंधों को प्रदर्शित करने के लिए, भारत के विभिन्न मंत्रियों द्वारा डिजाइन किए गए विशाल सुंदर झांकी को भारतीयों के बीच एकता दिखाने के लिए परेड के दौरान प्रदर्शित किया जाता है. परेड सेना के सर्वोच्च कमांडर के रूप में भारत के राष्ट्रपति का अनुसरण करते हैं. भारत के राष्ट्रपति राष्ट्रध्वज को फहराते हैं. इस गणतंत्र दिवस परेड और झांकी के प्रदर्शन को देखने के लिए विभिन्न देशों, शहरों और राज्यों के लोग इकट्ठा होते हैं.

भारत देश एक भयमुक्त देश है जो किसी भी सामाजिक आंदोलन या किसी भी खतरनाक स्थिति से लड़ने के लिए तैयार है. भारत सरकार बाकी देशों से बहुत विनम्र है और उन्होंने हर कठिन परिस्थिति में भी अन्य देशों की मदद की है. गणतंत्र दिवस के मौके पर अन्य देशों के राष्ट्रपति समारोह में मुख्य अतिथि के रुप में आमंत्रित किये जाते हैं. लेकिन इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण दूसरे देश से कोई भी अतिथि नहीं आ रहे हैं.

गणतंत्र दिवस का महत्व (Importance of Republic Day)

देशवासियों के लिए गणतंत्र दिवस एक सामान्य त्यौहार नहीं है. यह भारत का राष्ट्रीय त्यौहार है. हर जाति और धर्म के लोग इसे बड़े हर्षोल्लास से मनाते हैं. हालांकि 1947 में स्वतंत्र होने के बाद भारत पूरी तरह स्वतंत्र नहीं था और इसका अनुसरण कर रहा था. डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की अध्यक्षता में भारत के नव घोषित “संविधान” के बाद ब्रिटिश सरकार द्वारा बनाए गए कानून विश्व मंच पर एक स्थापित लोकतांत्रिक देश बन गया. यदि हम स्वतंत्र रूप से निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं या किसी भी प्रकार की कदाचार या उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाते हैं तो यह केवल हमारे देश की लोकतांत्रिक प्रकृति के कारण ही संभव है. यही कारण है कि यह इतना महत्वपूर्ण है.

गणतंत्र दिवस निबंध (Republic Day Essay in Hindi)

गणतंत्र दिवस का इतिहास (History of Republic Day)

26 जनवरी को होने वाला गणतंत्र दिवस एक संयोग नहीं था. एक अतीत है और काफ़ी दिलचस्प है. जब कांग्रेस ने पहली बार 1930 में 26 जनवरी को पूर्ण स्वराज की मांग की. 1929 में लाहौर में पंडित जवाहरलाल नेहरु की अध्यक्षता में कांग्रेस के सत्र के दौरान इसकी शुरुआत हुई, तो कांग्रेस ने 26 जनवरी 1930 के बाद और उसके बाद भारत के लिए एक स्वायत्त शासन देने की घोषणा की. भारत खुद को पूरी तरह से स्वतंत्र देश घोषित करेगा, लेकिन जब ब्रिटिश सरकार की ओर से इस मुद्दे पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई तो उसके बाद कांग्रेस ने उस दिन से पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए अपना सक्रिय आंदोलन शुरू किया. हालांकि जब भारत 26 जनवरी के दिन को याद करते हुए 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र हुआ, उस दिन भारत का संविधान स्थापित किया गया था.

गणतंत्र दिवस का उत्सव (Celebration of Republic Day)

हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है. भारत के राष्ट्रपति दिल्ली में राजपथ पर राष्ट्रध्वज फहराते हैं और उसके बाद वहां मौजूद अन्य सभी लोगों द्वारा राष्ट्रगान ‘जन गण मन’ खड़े होकर गाया जाता है. उसके बाद विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसे नृत्य,गायन का प्रदर्शन किया जाता है. परेड, मार्च पास्ट, भारतीय सेना, भारतीय नौसेना और भारतीय वायुसेना के विभिन्न रेजिमेंट द्वारा कार्यक्रम आयोजित किया जाता है.

यह दुनिया को संदेश देने के लिए कूटनीतिक शक्ति दिखाता है कि हम अपनी रक्षा करने में सक्षम हैं. अन्य देशों के साथ अपने संबंध बढ़ाने के लिए हम विभिन्न देशों के मुख्य अतिथियों को भी आमंत्रित करते हैं. इस दिन को भारत के राष्ट्रगान और भारत के कुछ अन्य देश भक्ति गीतों को गाकर मनाते हैं. भारतीय स्वतंत्रा सेनानियों पर आधारित कुछ अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम विभिन्न स्कूलों और कॉलेजों में छात्रों द्वारा प्रस्तुत किया जाता है. गणतंत्र दिवस की समारोहों में लोगों के बीच बहुत अधिक भीड़ होती है.

गणतंत्र दिवस शायरी (Republic Day Poetry)

1. ए बंदे!
ना हिंदू बन, ना मुस्लिम,
ना भ्रष्टाचार का गुलाम,
बस एक इंसान बन,
कुछ ऐसे कर्म कर,
कि खुद से कोई शर्म ना हो!

2. इतना सुंदर जीवन दिया है हमें,
कई लोगों की कुर्बानी ने,
फैशन ने अंधा कर दिया हमे,
जोश भरी जवानी में,
क्या समझेंगे हम सौगात मिले इस आजादी का

कभी सहा नहीं दर्द हमने गुलामी का!

3. बचपन का वह भी एक दौर था,
गणतंत्र में भी खुशी का शोर था,
ना जाने क्यों मैं इतना बड़ा हो गया,
इंसानियत में मजहबी बैर हो गया!

4. वीरों के बलिदान की कहानी है ये,
मां की कुर्बानी लालों की निशानी है ये,
यूं लड़ लड़ कर इसे तबाह न करना,
देश है कि मुझे,
उसे धर्म के नाम पर नीलाम ना करना,
इतनी है कि हम सब हिंदुस्तानी हैं!

5. यह आन तिरंगा है,
यह शान तिरंगा है,
अरमान तिरंगा है,
अभिमान तिरंगा है,
मेरी जान तिरंगा है!

अमर जवान ज्योति स्मारक महत्त्व

सेना दिवस क्यों मनाया जाता है

RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

  1. […] Republic Day is celebrated every year on 26 January. The President of India hoists the national flag at the Rajpath in Delhi and then the national anthem ‘Jana Gana Mana’ is sung standing up by all the others present there. After that various cultural programs like dance, singing are performed. Parades, march pasts, events are organized by various regiments of Indian Army, Indian Navy and Indian Air Force. […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

%d bloggers like this: