Homeइनफार्मेशनलसॉफ्टवेयर क्या है | Software Kya Hai

सॉफ्टवेयर क्या है | Software Kya Hai

Advertisements

सॉफ्टवेयर क्या है, सॉफ्टवेयर कितने प्रकार का होता है, सॉफ्टवेयर का इतिहास क्या है, सॉफ्टवेयर का क्या काम होता है, सॉफ्टवेयर कैसे बनाये, सॉफ्टवेयर के Examples क्या हैं (Software Kya Hai, Software Ke Kitne Types Hai, Software Ki Kya History Hai, Software Ka Kya Kaam Hota Hai, Software Kaise Banaye, Software Ke Examples)

आज के समय में Computer हमारी Basic Necessity बन गई है. हम हर जगह चाहे वह घर हो चाहे Office हो Computer का इस्तेमाल कर रहे हैं. यह कहना गलत नहीं है कि आज दुनिया Computer से चल रही है. कंप्यूटर को दो Parts में Classified किया जाता है. Hardware और Software. इन दोनों के बिना Computer का कोई अस्तित्व नहीं है  इस आर्टिकल के जरिए हम जानेंगे कि Software Kya Hai और इसका क्या काम होता है. यह एक प्रकार का Tool होता है जो Users को Computer में Hardware Parts के साथ Connect करता है. सॉफ्टवेयर के बिना हम Computer नहीं चला सकते हैं.

सॉफ्टवेयर क्या है (Software Kya Hai)

Computer में हम जितने भी काम करते हैं वह सभी सॉफ्टवेयर के द्वारा ही किया जाता है. यह Instructions का एक समूह या Program होता है, जिसका इस्तेमाल Computer को संचालित करने में किया जाता है. साधारण भाषा में कहें तो सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कंप्यूटर में चलने वाले Application के लिए करते हैं. यह कंप्यूटर का सबसे Important Part होता है. इसके बिना Computer चलना नामुमकिन है. कंप्यूटर में Input Device का इस्तेमाल किया जाता है जैसे कि Monitor, Printer, Keyboard, Mouse आदि जिसे हम Hardware कहते हैं.

Advertisements

इन Hardware को Instructions देने वाले Application Program को Software कहा जाता है. जैसे कि MS Office, Internet Browser, Power Point, Excel, Word आदि. सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर का Variable Part और हार्डवेयर को Invariable Part कहते हैं. सॉफ्टवेयर को कई प्रकार के Programming Languages इसमें लिखा जाता है.

सॉफ्टवेयर का इतिहास (Software Ka Itihas)

19वीं शताब्दी में Ada Lovelace ने World का पहला Program बनाया था. जिसे Charles Babbage के Analytical Engine के लिए Publish किया गया था. उन्हें दुनिया का पहला Computer Programmer कहा जाता है. Alan Turing में सबसे पहले Software का सिद्धांत अपने Essay “Computable  Numbers with an Application to the Entscheidungsproblem में दिया था. लेकिन इस शब्द की खोज सबसे पहले John Tukey ने किया था जो कि एक गणितज्ञ थे.

सॉफ्टवेयर कितने प्रकार का होता है (Software Kitne Prakar Ka Hota Hai)

1. सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software)

यह एक से ज्यादा Program का समूह है. इस सॉफ्टवेयर की मदद से कंप्यूटर उसके Hardware को Control करता है.

यह Computer के Maintenance का काम करता है.
Computer को Control करता है.
नए Hardware को Use करने में Help करता है.
यह Application Software को Execute करने के लिए Platform देता है.
Users को Hardware से Connect करता है.
इसके कुछ उदाहरण है जैसे कि Operating System, Language Translator (Assembler, Compiler, Interpret).

2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software)

इसका इस्तेमाल हम अपनी Daily Routine का काम करने के लिए करते हैं. जैसे कि Database Software, Word Processing, Graphics आदि. यह Program का एक ऐसा समूह होता है जो User अपने Normal कामों के लिए इस्तेमाल करता है. इसका उपयोग इन कामों के लिए किया जाता है.

Business के लिए
Education के लिए
Graphic के लिए
Word Resources के लिए
Database Management System के लिए
Information Technology के लिए
Computer Based Designing के लिए

3. यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (Utility Software)

इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल हमें बार-बार करना पड़ता है. ऐसे बहुत सारे काम होते हैं जो करने के लिए हमें यूटिलिटी सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है. इसका इस्तेमाल इन कामों में किया जाता है

Antivirus Utility
Disk Click Up
Disk Formating
File Sorting Program
Disk Management Program
Data Selection Program

सॉफ्टवेयर का क्या काम होता है (Software Ka Kya Kaam Hota Hai)

Software का काम इस बात पर निर्भर करता है कि उसे किस Purpose से बनाया गया है. जैसे कि कंप्यूटर में Store Files को Manage करने के लिए Operating System का इस्तेमाल किया जाता है जो एक प्रकार का System Software है. Numbers को Calculate करने के लिए Calculator का Use किया जाता है जो एक सॉफ्टवेयर है. इसके अलावा Windows, Android, Linux आदि सभी ऑपरेटिंग सिस्टम एक प्रकार की सॉफ्टवेयर होते हैं जो हमारे कंप्यूटर को चलाने में काम आता है. हम जो भी काम अपने Computer, Laptop में Mobile पर करते हैं. वह सभी सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल से किया जाता है.

सॉफ्टवेयर कैसे बनाये (Software Kaise Banaye)

यदि आपको सॉफ्टवेयर बनाने में Interest है तो इसकी शुरुआत आपको Programming Language सीखने से करना पड़ेगा. इन Language को सीखने के बाद ही सॉफ्टवेयर को Develop किया जाता है. लेकिन Programming Language सीखना इतना आसान नहीं होता है क्योंकि इसमें बहुत सारी Languages होती हैं. इसमें आपको Choose करना होगा कि आप किस तरह की Language सीखना जा रहे हैं. इसके लिए आपको यह Clear होना चाहिए कि आप किस प्रकार का Application बनाना चाहते हैं.

जैसे कि अगर आप Simple Application बनाना चाहते हैं तो आपको C, C#, Swift, Java, C++, PHP भाषाओं को सीखना पड़ेगा. लेकिन अगर आप Blockchain, Data Science, Artificial Intelligence जैसी नई Technology से Related Software Develop करना चाहते हैं तो आप Python जैसी High Quality Language को सीखना चाहिए.  हमने नीचे कुछ Programming Languages के नाम दिए हैं जो आप सीख सकते हैं-

– Go
– Python
– Java Language
– PHP
– Java Script
– Type Script
– C Language
– Kotlin
– Swift
– C#
– C++


ये भी पढ़ें-
Server Kya Hai
What is Storage Device
What is WhatsApp
Virat Kohli Hairstyle

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

%d bloggers like this: